गोरखपुर: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय की सोच थी कि जब समाज के अंतिम पायदान का व्यक्ति सत्ता के शीर्ष पर बैठेगा तब जाकर अंत्योदय से राष्ट्रोदय होगा। जनजाति समाज के साधारण परिवार की महिला द्रौपदी मुर्मु का राष्ट्रपति के पद पर आसीन होना महापुरुषों के सपनों को साकार करने जैसा तो है ही, भारत के लोकतांत्रिक मूल्यों व आदर्शों का बेहतरीन सम्मान भी है। केंद्र एवं प्रदेश की डबल इंजन सरकार समाज के अंतिम व्यक्ति के उत्थान के लिए कई कार्यक्रम चला रही हैं, उसका लाभ पाकर जनजाति समाज के लोग मुख्य धारा में आ रहे हैं। जो सपना और संकल्प भाजपा ने लिया था वह पूरा हो रहा है। आजादी के अमृत महोत्सव का इससे बेहतरीन उत्साह व उमंग और कुछ नहीं हो सकता था।


भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश स्तरीय प्रशिक्षण शिविर के समापन सत्र को संबोधित कर रहे मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश को सबका साथ, विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास की परिकल्पना दी। 10 करोड़ शौचालय से न केवल नारी गरिमा की रक्षा हुई बल्कि स्वस्थ जीवन की गारंटी मिली। आवास, आयुषमान कार्ड, बिजली और गैस के कनेक्शन जैसी सुविधाओं ने समाज के अंतिम व्यक्ति का जीवन बदलकर रख दिया। जम्मू कश्मीर ऐसा इकलौताराज्य था, जहां एससी व एसटी वर्ग को आरक्षण नहीं मिलता था।

रानीडीहा स्थित संस्कृति पब्लिक स्कूल में गुरुवार को आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में पर्यटन की पर्याप्त संभावनाएं हैं। जनजाति समाज की ईको टूरिज्म में विशेषज्ञता होनी चाहिए क्योंकि इस समाज का प्रकृति के साथ भावनात्मक संवाद है।

गांव स्वावलंबी होंगे तो प्रदेश व देश बनेगा स्मार्ट


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को कम्हरिया घाट पुल का भी लोकार्पण किया। गोरखपुर से प्रयागराज को जोड़ने वाला यह पुल अंबेडकरनगर, जौनपुर, अयोध्या आने-जाने वाले लोगों के लिए नया वैकल्पिक मार्ग तो होगा ही गोरखपुर से प्रयागराज की दूरी भी करीब 80 किलोमीटर कम कर देगा। लोकार्पण समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने गांवों को विकसित कर स्वावलंबी बनाने की अपील की। उन्होंने कहा कि इससे जिले विकसित होंगे और प्रदेश व देश स्मार्ट बनेगा।

ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में भागीदारी को कनाडा उत्सुक राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री


योगी आदित्यनाथ से गुरुवार को उनके आवास पर भारत में कनाडा के उच्चायुक्त कैमरान मैके ने मुलाकात की। इस दौरान दोनों देशों के बीच मजबूत सांस्कृतिक, वाणिज्यिक और रणनीतिक संबंधों पर विचार-विमर्श हुआ। वर्ष 2023 में जनवरी-फरवरी में प्रस्तावित उत्तर प्रदेश ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट की चर्चा करते हुए उच्चायुक्त ने कहा कि यह कना के निवेशकों के लिए शानदार अवसर है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में शिक्षा, इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट और लाजिस्टिक्स के क्षेत्र में सहयोग के लिए कनाच उत्सुक है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्लोबल इनवेस्टर समिट कना के उद्यमियों के लिए एक अच्छा अवसर हो सकता है। दोनों देशों के बीच आर्थिक संबंधों को और मजबूत करने के लिहाज से यह महत्त्वपूर्ण अवसर है। मुझे उम्मीद है कि कनाडा की और से सकारात्मक सहयोग प्राप्त होगा। उच्चायुक्त ने मुख्यमंत्री योगी से पर्यटन, कृषि, जल, विद्युत एवं सौर उर्जा के साथ शैक्षिक आदान प्रदान के क्षेत्र में सहयोग की संभावनाओं पर विस्तार से चर्चा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में उद्योगों के लिए सुरक्षित व शांतिपूर्ण माहौल है।

Post a Comment

Previous Post Next Post